Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 5.14 Download BG 5.14 as Image

⮪ BG 5.13 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 5.15⮫

Bhagavad Gita Chapter 5 Verse 14

भगवद् गीता अध्याय 5 श्लोक 14

न कर्तृत्वं न कर्माणि लोकस्य सृजति प्रभुः।
न कर्मफलसंयोगं स्वभावस्तु प्रवर्तते।।5.14।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 5.14)

।।5.14।।परमेश्वर मनुष्योंके न कर्तापनकी न कर्मोंकी और न कर्मफलके साथ संयोगकी रचना करते हैं किन्तु स्वभाव ही बरत रहा है।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।5.14।। लोकमात्र के लिए प्रभु (ईश्वर) न कर्तृत्व न कर्म और न कर्मफल के संयोग को रचता है। परन्तु प्रकृति (सब कुछ) करती है।।