Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 5.12 Download BG 5.12 as Image

⮪ BG 5.11 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 5.13⮫

Bhagavad Gita Chapter 5 Verse 12

भगवद् गीता अध्याय 5 श्लोक 12

युक्तः कर्मफलं त्यक्त्वा शान्तिमाप्नोति नैष्ठिकीम्।
अयुक्तः कामकारेण फले सक्तो निबध्यते।।5.12।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 5.12)

।।5.12।।कर्मयोगी कर्मफलका त्याग करके नैष्ठिकी शान्तिको प्राप्त होता है। परन्तु सकाम मनुष्य कामनाके कारण फलमें आसक्त होकर बँध जाता है।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।5.12।। युक्त पुरुष कर्मफल का त्याग करके परम शान्ति को प्राप्त होता है और अयुक्त पुरुष फल में आसक्त हुआ कामना के द्वारा बँधता है।।