Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 4.8 Download BG 4.8 as Image

⮪ BG 4.7 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 4.9⮫

Bhagavad Gita Chapter 4 Verse 8

भगवद् गीता अध्याय 4 श्लोक 8

परित्राणाय साधूनां विनाशाय च दुष्कृताम्।
धर्मसंस्थापनार्थाय संभवामि युगे युगे।।4.8।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 4.8)

।।4.8।।साधुओं(भक्तों) की रक्षा करनेके लिये पापकर्म करनेवालोंका विनाश करनेके लिये और धर्मकी भलीभाँति स्थापना करनेके लिये मैं युगयुगमें प्रकट हुआ करता हूँ।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।4.8।। साधु पुरुषों के रक्षण दुष्कृत्य करने वालों के नाश तथा धर्म संस्थापना के लिये मैं प्रत्येक युग में प्रगट होता हूँ।।