Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 4.3 Download BG 4.3 as Image

⮪ BG 4.2 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 4.4⮫

Bhagavad Gita Chapter 4 Verse 3

भगवद् गीता अध्याय 4 श्लोक 3

स एवायं मया तेऽद्य योगः प्रोक्तः पुरातनः।
भक्तोऽसि मे सखा चेति रहस्यं ह्येतदुत्तमम्।।4.3।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 4.3)

।।4.3।।तू मेरा भक्त और प्रिय सखा है इसलिये वही यह पुरातन योग आज मैंने तुझसे कहा है क्योंकि यह बड़ा उत्तम रहस्य है।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।4.3।। वह ही यह पुरातन योग आज मैंने तुम्हें कहा (सिखाया) क्योंकि तुम मेरे भक्त और मित्र हो। यह उत्तम रहस्य है।।