Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 4.27 Download BG 4.27 as Image

⮪ BG 4.26 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 4.28⮫

Bhagavad Gita Chapter 4 Verse 27

भगवद् गीता अध्याय 4 श्लोक 27

सर्वाणीन्द्रियकर्माणि प्राणकर्माणि चापरे।
आत्मसंयमयोगाग्नौ जुह्वति ज्ञानदीपिते।।4.27।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 4.27)

।।4.27।।अन्य योगीलोग सम्पूर्ण इन्द्रियोंकी क्रियाओंको और प्राणोंकी क्रियाओंको ज्ञानसे प्रकाशित आत्मसंयमयोगरूप अग्निमें हवन किया करते हैं।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।4.27।। दूसरे (योगीजन) सम्पूर्ण इन्द्रियों के तथा प्राणों के कर्मों को ज्ञान से प्रकाशित आत्मसंयमयोगरूप अग्नि में हवन करते हैं।।