Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 4.18 Download BG 4.18 as Image

⮪ BG 4.17 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 4.19⮫

Bhagavad Gita Chapter 4 Verse 18

भगवद् गीता अध्याय 4 श्लोक 18

कर्मण्यकर्म यः पश्येदकर्मणि च कर्म यः।
स बुद्धिमान् मनुष्येषु स युक्तः कृत्स्नकर्मकृत्।।4.18।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 4.18)

।।4.18।।जो मनुष्य कर्ममें अकर्म देखता है और जो अकर्ममें कर्म देखता है वह मनुष्योंमें बुद्धिमान् है योगी है और सम्पूर्ण कर्मोंको करनेवाला है।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।4.18।। जो पुरुष कर्म में अकर्म और अकर्म में कर्म देखता है वह मनुष्यों में बुद्धिमान है वह योगी सम्पूर्ण कर्मों को करने वाला है।।