Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 4.1 Download BG 4.1 as Image

⮪ BG 3.43 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 4.2⮫

Bhagavad Gita Chapter 4 Verse 1

भगवद् गीता अध्याय 4 श्लोक 1

श्री भगवानुवाच
इमं विवस्वते योगं प्रोक्तवानहमव्ययम्।
विवस्वान् मनवे प्राह मनुरिक्ष्वाकवेऽब्रवीत्।।4.1।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 4.1)

।।4.1।।श्रीभगवान् बोले मैंने इस अविनाशी योगको सूर्यसे कहा था। फिर सूर्यने (अपने पुत्र) वैवस्वत मनुसे कहा और मनुने (अपने पुत्र) राजा इक्ष्वाकुसे कहा।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।4.1।। श्रीभगवान् ने कहा मैंने इस अविनाशी योग को विवस्वान् (सूर्य देवता) से कहा (सिखाया) विवस्वान् ने मनु से कहा मनु ने इक्ष्वाकु से कहा।।