Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 3.40 Download BG 3.40 as Image

⮪ BG 3.39 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 3.41⮫

Bhagavad Gita Chapter 3 Verse 40

भगवद् गीता अध्याय 3 श्लोक 40

इन्द्रियाणि मनो बुद्धिरस्याधिष्ठानमुच्यते।
एतैर्विमोहयत्येष ज्ञानमावृत्य देहिनम्।।3.40।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 3.40)

।।3.40।।इन्द्रियाँ मन और बुद्धि इस कामके वासस्थान कहे गये हैं। यह काम इन(इन्द्रियाँ मन और बुद्धि) के द्वारा ज्ञानको ढककर देहाभिमानी मनुष्यको मोहित करता है।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।3.40।। इन्द्रियाँ मन और बुद्धि इसके निवास स्थान कहे जाते हैं यह काम इनके द्वारा ही ज्ञान को आच्छादित करके देही पुरुष को मोहित करता है।।