Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 2.59 Download BG 2.59 as Image

⮪ BG 2.58 Bhagwad Gita Swami Ramsukhdas Ji BG 2.60⮫

Bhagavad Gita Chapter 2 Verse 59

भगवद् गीता अध्याय 2 श्लोक 59

विषया विनिवर्तन्ते निराहारस्य देहिनः।
रसवर्जं रसोऽप्यस्य परं दृष्ट्वा निवर्तते।।2.59।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 2.59)

।।2.59।।निराहारी (इन्द्रियोंको विषयोंसे हटानेवाले) मनुष्यके भी विषय तो निवृत्त हो जाते हैं पर रस निवृत्त नहीं होता। परन्तु इस स्थितप्रज्ञ मनुष्यका तो रस भी परमात्मतत्त्वका अनुभव होनेसे निवृत्त हो जाता है।

हिंदी टीका - स्वामी रामसुख दास जी

 2.59।। व्याख्या    विषया विनिवर्तन्ते निराहारस्य देहिनः रसवर्जम्   मनुष्य निराहार दो तरहसे होता है (1) अपनी इच्छासे भोजनका त्याग कर देना अथवा बीमारी आनेसे भोजनका त्याग हो जाना और (2) सम्पूर्ण विषयोंका त्याग करके एकान्तमें बैठना अर्थात् इन्द्रियोंको विषयोंसे हटा लेना।यहाँ इन्द्रियोंको विषयोंसे हटानेवाले साधकके लिये ही  निराहारस्य  पद आया है।रोगीके मनमें यह रहता है कि क्या करूँ शरीरमें पदार्थोंका सेवन करनेकी सामर्थ्य नहीं है इसमें मेरी परवश्ता है परन्तु जब मैं ठीक हो जाऊँगा शरीरमें शक्ति आ जायगी तब मैं पदार्थोंका सेवन करूँगा। इस तरह उसके भीतर रसबुद्धि रहती है। ऐसे ही इन्द्रियोंको विषयोंसे हटानेपर विषय तो निवृत्त हो जाते हैं पर साधकके भीतर विषयोंमें जो रसबुद्धि सुखबुद्धि है वह जल्दी निवृत्त नहीं होती।जिनका स्वाभाविक ही विषयोंमें राग नहीं है और जो तीव्र वैराग्यवान् हैं उन साधकोंकी रसबुद्धि साधनावस्थामें ही निवृत्त हो जाती है। परन्तु जो तीव्र वैराग्यके बिना ही विचारपूर्वक साधनमें लगे हुए हैं उन्हीं साधकोंके लिये यह कहा गया है कि विषयोंका त्याग कर देनेपर भी उनकी रसबुद्धि निवृत्त नहीं होती। रसोऽप्यस्य परं दृष्टा निवर्तते   इस स्थितप्रज्ञकी रसबुद्धि परमात्माका अनुभव हो जानेपर निवृत्त हो जाती है। रसबुद्धि निवृत्त होनेसे वह स्थितप्रज्ञ हो ही जाता है यह नियम नहीं है। परन्तु स्थितप्रज्ञ होनेसे रसबुद्धि नहीं रहती यह नियम है। रसोऽप्यस्य  पदसे यह तात्पर्य निकलता है कि रसबुद्धि साधककी अहंतामें अर्थात् मैं पनमें रहती है। यही रसबुद्धि स्थूलरूपसे रागका रूप धारण कर लेती है। अतः साधकको चाहिये कि वह अपनी अहंतासे ही रसको निकाल दे कि मैं तो निष्काम हूँ राग करना कामना करना मेरा काम नहीं है। इस प्रकार निष्कामभाव आ जानसे अथवा निष्काम होनेका उद्देश्य होनेसे रसबुद्धि नहीं रहती और परमात्मतत्त्वका अनुभव होनेसे रसकी सर्वथा निवृत्ति हो जाती है। सम्बन्ध   रसकी निवृत्ति न हो क्या आपत्ति है इसे आगेके श्लोकमें बताते हैं।