Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 2.41 Download BG 2.41 as Image

⮪ BG 2.40 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 2.42⮫

Bhagavad Gita Chapter 2 Verse 41

भगवद् गीता अध्याय 2 श्लोक 41

व्यवसायात्मिका बुद्धिरेकेह कुरुनन्दन।
बहुशाखा ह्यनन्ताश्च बुद्धयोऽव्यवसायिनाम्।।2.41।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 2.41)

।।2.41।।हे कुरुनन्दन इस समबुद्धिकी प्राप्तिके विषयमें व्यवसायात्मिका बुद्धि एक ही होती है। अव्यवसायी मनुष्योंकी बुद्धियाँ अनन्त और बहुशाखाओंवाली ही होती हैं।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।2.41।। हे कुरुनन्दन इस (विषय) में निश्चयात्मक बुद्धि एक ही है? अज्ञानी पुरुषों की बुद्धियां (संकल्प) बहुत भेदों वाली और अनन्त होती हैं।।