Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 2.4 Download BG 2.4 as Image

⮪ BG 2.3 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 2.5⮫

Bhagavad Gita Chapter 2 Verse 4

भगवद् गीता अध्याय 2 श्लोक 4

अर्जुन उवाच
कथं भीष्ममहं संख्ये द्रोणं च मधुसूदन।
इषुभिः प्रतियोत्स्यामि पूजार्हावरिसूदन।।2.4।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 2.4)

।।2.4।।अर्जुन बोले हे मधुसूदन मैं रणभूमिमें भीष्म और द्रोणके साथ बाणोंसे युद्ध कैसे करूँ क्योंकि हे अरिसूदन ये दोनों ही पूजाके योग्य हैं।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।2.4।। अर्जुन ने कहा -- हे मधुसूदन मैं रणभूमि में किस प्रकार भीष्म और द्रोण के साथ बाणों से युद्ध करूँगा। हे अरिसूदन? वे दोनों ही पूजनीय हैं।।