Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 2.36 Download BG 2.36 as Image

⮪ BG 2.35 Bhagwad Gita Hindi BG 2.37⮫

Bhagavad Gita Chapter 2 Verse 36

भगवद् गीता अध्याय 2 श्लोक 36

अवाच्यवादांश्च बहून् वदिष्यन्ति तवाहिताः।
निन्दन्तस्तव सामर्थ्यं ततो दुःखतरं नु किम्।।2.36।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 2.36)

।।2.36।।तेरे शत्रुलोग तेरी सार्मथ्यकी निन्दा करते हुए न कहनेयोग्य बहुतसे वचन कहेंगे। उससे बढ़कर और दुःखकी बात क्या होगी

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।2.36।। तुम्हारे शत्रु तुम्हारे सार्मथ्य की निन्दा करते हुए बहुत से अकथनीय वचनों को कहेंगे? फिर उससे अधिक दुख क्या होगा

हिंदी टीका - स्वामी रामसुख दास जी

 2.36।। व्याख्या  अवाच्यवादांश्च ৷৷. निन्दन्तस्तव सामर्थ्यम्   अहित नाम शत्रुका है  अहित करनेवालेका है। तेरे जो दुर्योधन दुःशासन कर्ण आदि शत्रु हैं तेरे वैर न रखनेपर भी वे स्वयं तेरे साथ वैर रखकर तेरा अहित करनेवाले हैं। वे तेरी सामर्थ्यको जानते हैं कि यह बड़ा भारी शूरवीर है। ऐसा जानते हुए भी वे तेरी सामर्थ्यकी निन्दा करेंगे कि यह तो हिजड़ा है। देखो यह युद्धके मौकेपर हो गया न अलग क्या यह हमारे सामने टिक सकता है क्या यह हमारे साथ युद्ध कर सकता है इस प्रकार तुझे दुःखी करनेके लिये तेरे भीतर जलन पैदा करनेके लिये न जाने कितने न कहनेलायक वचन कहेंगे। उनके वचनोंको तू कैसे सहेगा सम्बन्ध   पीछेके चार श्लोकोंमें युद्ध न करनेसे हानि बताकर अब भगवान् आगेके दो श्लोकोंमें युद्ध करनेसे लाभ बताते हैं।

हिंदी टीका - स्वामी चिन्मयानंद जी

।।2.36।। यह देखकर कि अर्जुन के मन में इन तर्कों का अनुकूल प्रभाव पड़ रहा है श्रीकृष्ण उसको युद्ध से पलायन करने में जो दोष हैं उन्हें और अधिक स्पष्ट करके दिखाते हैं। लोकनिन्दा युद्ध से पलायन का आरोप इतिहास में अपकीर्ति इनसे बढ़कर एक सम्मानित व्यक्ति के लिये और अधिक दुख क्या हो सकता है