Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 2.35 Download BG 2.35 as Image

⮪ BG 2.34 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 2.36⮫

Bhagavad Gita Chapter 2 Verse 35

भगवद् गीता अध्याय 2 श्लोक 35

भयाद्रणादुपरतं मंस्यन्ते त्वां महारथाः।
येषां च त्वं बहुमतो भूत्वा यास्यसि लाघवम्।।2.35।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 2.35)

।।2.35।।महारथीलोग तुझे भयके कारण युद्धसे उपरत हुआ मानेंगे। जिनकी धारणामें तू बहुमान्य हो चुका है उनकी दृष्टिमें तू लघुताको प्राप्त हो जायगा।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।2.35।। और जिनके लिए तुम बहुत माननीय हो उनके लिए अब तुम तुच्छता को प्राप्त होओगे? वे महारथी लोग तुम्हें भय के कारण युद्ध से निवृत्त हुआ मानेंगे।।