Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 2.31 Download BG 2.31 as Image

⮪ BG 2.30 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 2.32⮫

Bhagavad Gita Chapter 2 Verse 31

भगवद् गीता अध्याय 2 श्लोक 31

स्वधर्ममपि चावेक्ष्य न विकम्पितुमर्हसि।
धर्म्याद्धि युद्धाछ्रेयोऽन्यत्क्षत्रियस्य न विद्यते।।2.31।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 2.31)

।।2.31।।अपने धर्मको देखकर भी तुम्हें विकम्पित अर्थात् कर्तव्यकर्मसे विचलित नहीं होना चाहिये क्योंकि धर्ममय युद्धसे बढ़कर क्षत्रियके लिये दूसरा कोई कल्याणकारक कर्म नहीं है।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।2.31।। और स्वधर्म को भी देखकर तुमको विचलित होना उचित नहीं है? क्योंकि धर्मयुक्त युद्ध से बढ़कर दूसरा कोई कल्याणकारक कर्त्तव्य क्षत्रिय के लिये नहीं है।।