Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 18.9 Download BG 18.9 as Image

⮪ BG 18.8 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 18.10⮫

Bhagavad Gita Chapter 18 Verse 9

भगवद् गीता अध्याय 18 श्लोक 9

कार्यमित्येव यत्कर्म नियतं क्रियतेऽर्जुन।
सङ्गं त्यक्त्वा फलं चैव स त्यागः सात्त्विको मतः।।18.9।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 18.9)

।।18.9।।हे अर्जुन केवल कर्तव्यमात्र करना है -- ऐसा समझकर जो नियत कर्म आसक्ति और फलका त्याग करके किया जाता है? वही सात्त्विक त्याग माना गया है।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।18.9।। हे अर्जुन कर्म करना कर्तव्य है ऐसा समझकर जो नियत कर्म आसक्ति और फल को त्यागकर किया जाता है? वही सात्त्विक त्याग माना गया है।।