Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 18.71 Download BG 18.71 as Image

⮪ BG 18.70 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 18.72⮫

Bhagavad Gita Chapter 18 Verse 71

भगवद् गीता अध्याय 18 श्लोक 71

श्रद्धावाननसूयश्च श्रृणुयादपि यो नरः।
सोऽपि मुक्तः शुभाँल्लोकान्प्राप्नुयात्पुण्यकर्मणाम्।।18.71।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 18.71)

।।18.71।।श्रद्धावान् और दोषदृष्टिसे रहित जो मनुष्य इस गीताग्रन्थको सुन भी लेगा? वह भी सम्पूर्ण पापोंसे मुक्त होकर पुण्यकारियोंके शुभ लोकोंको प्राप्त हो जायगा।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।18.71।। तथा जो श्रद्धावान् और अनसुयु (दोषदृष्टि रहित) पुरुष इसका श्रवणमात्र भी करेगा? वह भी (पापों से) मुक्त होकर पुण्यकर्मियों के शुभ (श्रेष्ठ) लोकों को प्राप्त कर लेगा।।