Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 18.66 Download BG 18.66 as Image

⮪ BG 18.65 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 18.67⮫

Bhagavad Gita Chapter 18 Verse 66

भगवद् गीता अध्याय 18 श्लोक 66

सर्वधर्मान्परित्यज्य मामेकं शरणं व्रज।
अहं त्वा सर्वपापेभ्यो मोक्षयिष्यामि मा शुचः।।18.66।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 18.66)

।।18.66।।सम्पूर्ण धर्मोंका आश्रय छोड़कर तू केवल मेरी शरणमें आ जा। मैं तुझे सम्पूर्ण पापोंसे मुक्त कर दूँगा? चिन्ता मत कर।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।18.66।। सब धर्मों का परित्याग करके तुम एक मेरी ही शरण में आओ? मैं तुम्हें समस्त पापों से मुक्त कर दूँगा? तुम शोक मत करो।।