Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 18.64 Download BG 18.64 as Image

⮪ BG 18.63 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 18.65⮫

Bhagavad Gita Chapter 18 Verse 64

भगवद् गीता अध्याय 18 श्लोक 64

सर्वगुह्यतमं भूयः श्रृणु मे परमं वचः।
इष्टोऽसि मे दृढमिति ततो वक्ष्यामि ते हितम्।।18.64।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 18.64)

।।18.64।।सबसे अत्यन्त गोपनीय वचन तू फिर मेरेसे सुन। तू मेरा अत्यन्त प्रिय है? इसलिये मैं तेरे हितकी बात कहूँगा।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।18.64।। पुन एक बार तुम मुझसे समस्त गुह्यों में गुह्यतम परम वचन (उपदेश) को सुनो। तुम मुझे अतिशय प्रिय हो? इसलिए मैं तुम्हें तुम्हारे हित की बात कहूंगा।।