Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 18.62 Download BG 18.62 as Image

⮪ BG 18.61 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 18.63⮫

Bhagavad Gita Chapter 18 Verse 62

भगवद् गीता अध्याय 18 श्लोक 62

तमेव शरणं गच्छ सर्वभावेन भारत।
तत्प्रसादात्परां शान्तिं स्थानं प्राप्स्यसि शाश्वतम्।।18.62।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 18.62)

।।18.62।।हे भरतवंशोद्भव अर्जुन तू सर्वभावसे उस ईश्वरकी ही शरणमें चला जा। उसकी कृपासे तू परमशान्ति(संसारसे सर्वथा उपरति) को और अविनाशी परमपदको प्राप्त हो जायगा।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।18.62।। हे भारत तुम सम्पूर्ण भाव से उसी (ईश्वर) की शरण में जाओ। उसके प्रसाद से तुम परम शान्ति और शाश्वत स्थान को प्राप्त करोगे।।