Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 18.58 Download BG 18.58 as Image

⮪ BG 18.57 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 18.59⮫

Bhagavad Gita Chapter 18 Verse 58

भगवद् गीता अध्याय 18 श्लोक 58

मच्चित्तः सर्वदुर्गाणि मत्प्रसादात्तरिष्यसि।
अथ चेत्त्वमहङ्कारान्न श्रोष्यसि विनङ्क्ष्यसि।।18.58।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 18.58)

।।18.58।।मेरेमें चित्तवाला होकर तू मेरी कृपासे सम्पूर्ण विघ्नोंको तर जायगा और यदि तू अहंकारके कारण मेरी बात नहीं सुनेगा तो तेरा पतन हो जायगा।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।18.58।। मच्चित्त होकर तुम मेरी कृपा से समस्त कठिनाइयों (सर्वदुर्गाणि) को पार कर जाओगे और यदि अहंकारवश (इस उपदेश को) नहीं सुनोगे? तो तुम नष्ट हो जाओगे।।