Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 18.49 Download BG 18.49 as Image

⮪ BG 18.48 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 18.50⮫

Bhagavad Gita Chapter 18 Verse 49

भगवद् गीता अध्याय 18 श्लोक 49

असक्तबुद्धिः सर्वत्र जितात्मा विगतस्पृहः।
नैष्कर्म्यसिद्धिं परमां संन्यासेनाधिगच्छति।।18.49।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 18.49)

।।18.49।।जिसकी बुद्धि सब जगह आसक्तिरहित है? जिसने शरीरको वशमें कर रखा है? जो स्पृहारहित है? वह मनुष्य सांख्ययोगके द्वारा नैष्कर्म्यसिद्धिको प्राप्त हो जाता है।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।18.49।। सर्वत्र आसक्ति रहित बुद्धि वाला वह पुरुष जो स्पृहारहित तथा जितात्मा है? संन्यास के द्वारा परम नैर्ष्कम्य सिद्धि को प्राप्त होता है।।