Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 18.42 Download BG 18.42 as Image

⮪ BG 18.41 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 18.43⮫

Bhagavad Gita Chapter 18 Verse 42

भगवद् गीता अध्याय 18 श्लोक 42

शमो दमस्तपः शौचं क्षान्तिरार्जवमेव च।
ज्ञानं विज्ञानमास्तिक्यं ब्रह्मकर्म स्वभावजम्।।18.42।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 18.42)

।।18.42।।मनका निग्रह करना इन्द्रियोंको वशमें करना धर्मपालनके लिये कष्ट सहना बाहरभीतरसे शुद्ध रहना दूसरोंके अपराधको क्षमा करना शरीर? मन आदिमें सरलता रखना वेद? शास्त्र आदिका ज्ञान होना यज्ञविधिको अनुभवमें लाना और परमात्मा? वेद आदिमें आस्तिक भाव रखना -- ये सबकेसब ब्राह्मणके स्वाभाविक कर्म हैं।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।18.42।। शम? दम? तप? शौच? क्षान्ति? आर्जव? ज्ञान? विज्ञान और आस्तिक्य ये ब्राह्मण के स्वाभाविक कर्म हैं।।