Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 18.41 Download BG 18.41 as Image

⮪ BG 18.40 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 18.42⮫

Bhagavad Gita Chapter 18 Verse 41

भगवद् गीता अध्याय 18 श्लोक 41

ब्राह्मणक्षत्रियविशां शूद्राणां च परंतप।
कर्माणि प्रविभक्तानि स्वभावप्रभवैर्गुणैः।।18.41।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 18.41)

।।18.41।।हे परंतप ब्राह्मण? क्षत्रिय? वैश्य और शूद्रोंके कर्म स्वभावसे उत्पन्न हुए तीनों गुणोंके द्वारा विभक्त किये गये हैं।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।18.41।। हे परन्तप ब्राह्मणों? क्षत्रियों? वैश्यों और शूद्रों के कर्म? स्वभाव से उत्पन्न गुणों के अनुसार विभक्त किये गये हैं।।