Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 18.30 Download BG 18.30 as Image

⮪ BG 18.29 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 18.31⮫

Bhagavad Gita Chapter 18 Verse 30

भगवद् गीता अध्याय 18 श्लोक 30

प्रवृत्तिं च निवृत्तिं च कार्याकार्ये भयाभये।
बन्धं मोक्षं च या वेत्ति बुद्धिः सा पार्थ सात्त्विकी।।18.30।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 18.30)

।।18.30।।हे पृथानन्दन जो बुद्धि प्रवृत्ति और निवृत्तिको? कर्तव्य और अकर्तव्यको? भय और अभयको तथा बन्धन और मोक्षको जानती है? वह बुद्धि सात्त्विकी है।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।18.30।। हे पार्थ जो बुद्धि प्रवृत्ति और निवृत्ति? कार्य और अकार्य? भय और अभय तथा बन्ध और मोक्ष को तत्त्वत जानती है? वह बुद्धि सात्विकी है।।