Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 18.28 Download BG 18.28 as Image

⮪ BG 18.27 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 18.29⮫

Bhagavad Gita Chapter 18 Verse 28

भगवद् गीता अध्याय 18 श्लोक 28

अयुक्तः प्राकृतः स्तब्धः शठो नैष्कृतिकोऽलसः।
विषादी दीर्घसूत्री च कर्ता तामस उच्यते।।18.28।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 18.28)

।।18.28।।जो कर्ता असावधान? अशिक्षित? ऐंठअकड़वाला? जिद्दी? उपकारीका अपकार करनेवाला? आलसी? विषादी और दीर्घसूत्री है? वह तामस कहा जाता है।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।18.28।। अयुक्त? प्राकृत? स्तब्ध? शठ? नैष्कृतिक? आलसी? विषादी और दीर्घसूत्री कर्ता तामस कहा जाता है।।