Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 18.23 Download BG 18.23 as Image

⮪ BG 18.22 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 18.24⮫

Bhagavad Gita Chapter 18 Verse 23

भगवद् गीता अध्याय 18 श्लोक 23

नियतं सङ्गरहितमरागद्वेषतः कृतम्।
अफलप्रेप्सुना कर्म यत्तत्सात्त्विकमुच्यते।।18.23।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 18.23)

।।18.23।।जो कर्म शास्त्रविधिसे नियत किया हुआ और कर्तृत्वाभिमानसे रहित हो तथा फलेच्छारहित मनुष्यके द्वारा बिना रागद्वेषके किया हुआ हो? वह सात्त्विक कहा जाता है।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।18.23।। जो कर्म (शास्त्रविधि से) नियत और संगरहित है? तथा फल को न चाहने वाले पुरुष के द्वारा बिना किसी राग द्वेष के किया गया है? वह (कर्म) सात्त्विक कहा जाता है।।