Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 18.21 Download BG 18.21 as Image

⮪ BG 18.20 Bhagwad Gita Swami Chinmayananda BG 18.22⮫

Bhagavad Gita Chapter 18 Verse 21

भगवद् गीता अध्याय 18 श्लोक 21

पृथक्त्वेन तु यज्ज्ञानं नानाभावान्पृथग्विधान्।
वेत्ति सर्वेषु भूतेषु तज्ज्ञानं विद्धि राजसम्।।18.21।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।18.21।। जिस ज्ञान के द्वारा मनुष्य समस्त भूतों में नाना भावों को पृथक्पृथक् जानता है? उस ज्ञान को तुम राजस जानो।।

हिंदी टीका - स्वामी चिन्मयानंद जी

।।18.21।। जब हम इन्द्रिय? मन और बुद्धि के माध्यम से जगत् का अवलोकन करते हैं? तब? निसन्देह उसमें हमें असंख्य प्रकार के भेद दृष्टिगोचर होते हैं। परन्तु जो वस्तु जिस रूप में दिखाई देती है? उसके उसी रूप को सत्य समझ लेना अविवेक का लक्षण है। राजसी पुरुष का मन सदैव चंचल और अस्थिर रहने के कारण वह कभी शान्त मन से विचार नहीं कर पाता और यही कारण है कि वह दृष्टिगोचर भेद? जैसे वनस्पति? पशु? मनुष्य आदि को परस्पर सर्वथा भिन्न और सत्य मान लेता है। ऐसे ज्ञान को राजस ज्ञान कहते हैं।