Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 18.21 Download BG 18.21 as Image

⮪ BG 18.20 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 18.22⮫

Bhagavad Gita Chapter 18 Verse 21

भगवद् गीता अध्याय 18 श्लोक 21

पृथक्त्वेन तु यज्ज्ञानं नानाभावान्पृथग्विधान्।
वेत्ति सर्वेषु भूतेषु तज्ज्ञानं विद्धि राजसम्।।18.21।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 18.21)

।।18.21।।परन्तु जो ज्ञान अर्थात् जिस ज्ञानके द्वारा मनुष्य सम्पूर्ण प्राणियोंमें अलगअलग अनेक भावोंको अलगअलग रूपसे जानता है? उस ज्ञानको तुम राजस समझो।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।18.21।। जिस ज्ञान के द्वारा मनुष्य समस्त भूतों में नाना भावों को पृथक्पृथक् जानता है? उस ज्ञान को तुम राजस जानो।।