Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 18.20 Download BG 18.20 as Image

⮪ BG 18.19 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 18.21⮫

Bhagavad Gita Chapter 18 Verse 20

भगवद् गीता अध्याय 18 श्लोक 20

सर्वभूतेषु येनैकं भावमव्ययमीक्षते।
अविभक्तं विभक्तेषु तज्ज्ञानं विद्धि सात्त्विकम्।।18.20।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 18.20)

।।18.20।।जिस ज्ञानके द्वारा साधक सम्पूर्ण विभक्त प्राणियोंमें विभागरहित एक अविनाशी भाव(सत्ता) को देखता है? उस ज्ञानको तुम सात्त्विक समझो।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।18.20।। जिस ज्ञान से मनुष्य? विभक्त रूप में स्थित समस्त भूतों में एक अविभक्त और अविनाशी (अव्यय) स्वरूप को देखता है? उस ज्ञान को तुम सात्त्विक जानो।।