Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 18.15 Download BG 18.15 as Image

⮪ BG 18.14 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 18.16⮫

Bhagavad Gita Chapter 18 Verse 15

भगवद् गीता अध्याय 18 श्लोक 15

शरीरवाङ्मनोभिर्यत्कर्म प्रारभते नरः।
न्याय्यं वा विपरीतं वा पञ्चैते तस्य हेतवः।।18.15।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 18.15)

।।18.15।।मनुष्य? शरीर? वाणी और मनके द्वारा शास्त्रविहित अथवा शास्त्रविरुद्ध जो कुछ भी कर्म आरम्भ करता है? उसके ये (पूर्वोक्त) पाँचों हेतु होते हैं।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।18.15।। मनुष्य अपने शरीर? वाणी और मन से जो कोई न्याय्य (उचित) या विपरीत (अनुचित) कर्म करता है? उसके ये पाँच कारण ही हैं।।