Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 18.12 Download BG 18.12 as Image

⮪ BG 18.11 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 18.13⮫

Bhagavad Gita Chapter 18 Verse 12

भगवद् गीता अध्याय 18 श्लोक 12

अनिष्टमिष्टं मिश्रं च त्रिविधं कर्मणः फलम्।
भवत्यत्यागिनां प्रेत्य न तु संन्यासिनां क्वचित्।।18.12।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 18.12)

।।18.12।।कर्मफलका त्याग न करनेवाले मनुष्योंको कर्मोंका इष्ट? अनिष्ट और मिश्रित -- ऐसे तीन प्रकारका फल मरनेके बाद भी होता है परन्तु कर्मफलका त्याग करनेवालोंको कहीं भी नहीं होता।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।18.12।। कर्मों के शुभ? अशुभ और मिश्र ये त्रिविध फल केवल अत्यागी जनों को मरण के पश्चात् भी प्राप्त होते हैं परन्तु संन्यासी पुरुषों को कदापि नहीं।।