Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 17.24 Download BG 17.24 as Image

⮪ BG 17.23 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 17.25⮫

Bhagavad Gita Chapter 17 Verse 24

भगवद् गीता अध्याय 17 श्लोक 24

तस्मादोमित्युदाहृत्य यज्ञदानतपःक्रियाः।
प्रवर्तन्ते विधानोक्ताः सततं ब्रह्मवादिनाम्।।17.24।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 17.24)

।।17.24।।इसलिये वैदिक सिद्धान्तोंको माननेवाले पुरुषोंकी शास्त्रविधिसे नियत यज्ञ? दान और तपरूप क्रियाएँ सदा इस परमात्माके नामका उच्चारण करके ही आरम्भ होती हैं।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।17.24।। इसलिए? ब्रह्मवादियों की शास्त्र प्रतिपादित यज्ञ? दान और तप की क्रियायें सदैव ओंकार के उच्चारण के साथ प्रारम्भ होती हैं।।