Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 17.22 Download BG 17.22 as Image

⮪ BG 17.21 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 17.23⮫

Bhagavad Gita Chapter 17 Verse 22

भगवद् गीता अध्याय 17 श्लोक 22

अदेशकाले यद्दानमपात्रेभ्यश्च दीयते।
असत्कृतमवज्ञातं तत्तामसमुदाहृतम्।।17.22।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 17.22)

।।17.22।।जो दान बिना सत्कारके तथा अवज्ञापूर्वक अयोग्य देश और कालमें कुपात्रको दिया जाता है? वह दान तामस कहा गया है।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।17.22।। जो दान बिना सत्कार किये? अथवा तिरस्कारपूर्वक? अयोग्य देशकाल में? कुपात्रों के लिए दिया जाता है? वह दान तामस माना गया है।।