Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 17.21 Download BG 17.21 as Image

⮪ BG 17.20 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 17.22⮫

Bhagavad Gita Chapter 17 Verse 21

भगवद् गीता अध्याय 17 श्लोक 21

यत्तु प्रत्युपकारार्थं फलमुद्दिश्य वा पुनः।
दीयते च परिक्लिष्टं तद्दानं राजसं स्मृतम्।।17.21।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 17.21)

।।17.21।।किन्तु जो दान प्रत्युपकारके लिये अथवा फलप्राप्तिका उद्देश्य बनाकर फिर क्लेशपूर्वक दिया जाता है? वह दान राजस कहा जाता है।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।17.21।। और जो दान क्लेशपूर्वक तथा प्रत्युपकार के उद्देश्य से अथवा फल की कामना रखकर दिया जाता हैं? वह दान राजस माना गया है।।