Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 17.19 Download BG 17.19 as Image

⮪ BG 17.18 Bhagwad Gita Brahma Vaishnava Sampradaya BG 17.20⮫

Bhagavad Gita Chapter 17 Verse 19

भगवद् गीता अध्याय 17 श्लोक 19

मूढग्राहेणात्मनो यत्पीडया क्रियते तपः।
परस्योत्सादनार्थं वा तत्तामसमुदाहृतम्।।17.19।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।17.19।। जो तप मूढ़तापूर्वक स्वयं को पीड़ित करते हुए अथवा अन्य लोगों के नाश के लिए किया जाता है? वह तप तामस कहा गया है।।

Brahma Vaishnava Sampradaya - Commentary