Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 17.13 Download BG 17.13 as Image

⮪ BG 17.12 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 17.14⮫

Bhagavad Gita Chapter 17 Verse 13

भगवद् गीता अध्याय 17 श्लोक 13

विधिहीनमसृष्टान्नं मन्त्रहीनमदक्षिणम्।
श्रद्धाविरहितं यज्ञं तामसं परिचक्षते।।17.13।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 17.13)

।।17.13।।शास्त्रविधिसे हीन? अन्नदानसे रहित? बिना मन्त्रोंके? बिना दक्षिणाके और बिना श्रद्धाके किये जानेवाले यज्ञको तामस यज्ञ कहते हैं।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।17.13।। शास्त्रविधि से रहित? अन्नदान से रहित? बिना मन्त्रों? बिना दक्षिणा और बिना श्रद्धा के किये हुए यज्ञ को तामस यज्ञ कहते हैं।।