Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 15.18 Download BG 15.18 as Image

⮪ BG 15.17 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 15.19⮫

Bhagavad Gita Chapter 15 Verse 18

भगवद् गीता अध्याय 15 श्लोक 18

यस्मात्क्षरमतीतोऽहमक्षरादपि चोत्तमः।
अतोऽस्मि लोके वेदे च प्रथितः पुरुषोत्तमः।।15.18।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 15.18)

।।15.18।।मैं क्षरसे अतीत हूँ और अक्षरसे भी उत्तम हूँ? इसलिये लोकमें और वेदमें पुरुषोत्तम नामसे प्रसिद्ध हूँ।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।15.18।। क्योंकि मैं क्षर से अतीत हूँ और अक्षर से भी उत्तम हूँ? इसलिये लोक में और वेद में भी पुरुषोत्तम के नाम से प्रसिद्ध हूँ।।