Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 15.17 Download BG 15.17 as Image

⮪ BG 15.16 Bhagwad Gita Brahma Vaishnava Sampradaya BG 15.18⮫

Bhagavad Gita Chapter 15 Verse 17

भगवद् गीता अध्याय 15 श्लोक 17

उत्तमः पुरुषस्त्वन्यः परमात्मेत्युदाहृतः।
यो लोकत्रयमाविश्य बिभर्त्यव्यय ईश्वरः।।15.17।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।15.17।। परन्तु उत्तम पुरुष अन्य ही है? जो परमात्मा कहलाता है और जो तीनों लोकों में प्रवेश करके सबका धारण करने वाला अव्यय ईश्वर है।।

Brahma Vaishnava Sampradaya - Commentary