Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 15.16 Download BG 15.16 as Image

⮪ BG 15.15 Bhagwad Gita Brahma Vaishnava Sampradaya BG 15.17⮫

Bhagavad Gita Chapter 15 Verse 16

भगवद् गीता अध्याय 15 श्लोक 16

द्वाविमौ पुरुषौ लोके क्षरश्चाक्षर एव च।
क्षरः सर्वाणि भूतानि कूटस्थोऽक्षर उच्यते।।15.16।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।15.16।। इस लोक में क्षर (नश्वर) और अक्षर (अनश्वर) ये दो पुरुष हैं? समस्त भूत क्षर हैं और कूटस्थ अक्षर कहलाता है।।

Brahma Vaishnava Sampradaya - Commentary

.