Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 14.26 Download BG 14.26 as Image

⮪ BG 14.25 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 14.27⮫

Bhagavad Gita Chapter 14 Verse 26

भगवद् गीता अध्याय 14 श्लोक 26

मां च योऽव्यभिचारेण भक्ितयोगेन सेवते।
स गुणान्समतीत्यैतान् ब्रह्मभूयाय कल्पते।।14.26।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 14.26)

।।14.26।।जो मनुष्य अव्यभिचारी भक्तियोगके द्वारा मेरा सेवन करता है? वह इन गुणोंका अतिक्रमण करके ब्रह्मप्राप्तिका पात्र हो जाता है।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।14.26।। जो पुरुष अव्यभिचारी भक्तियोग के द्वारा मेरी सेवा अर्थात् उपासना करता है? वह इन तीनों गुणों के अतीत होकर ब्रह्म बनने के लिये योग्य हो जाता है।।