Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 14.22 Download BG 14.22 as Image

⮪ BG 14.21 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 14.23⮫

Bhagavad Gita Chapter 14 Verse 22

भगवद् गीता अध्याय 14 श्लोक 22

श्री भगवानुवाच
प्रकाशं च प्रवृत्तिं च मोहमेव च पाण्डव।
न द्वेष्टि सम्प्रवृत्तानि न निवृत्तानि काङ्क्षति।।14.22।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 14.22)

।।14.22।।श्रीभगवान् बोले -- हे पाण्डव प्रकाश? प्रवृत्ति तथा मोह -- ये सभी अच्छी तरहसे प्रवृत्त हो जायँ तो भी गुणातीत मनुष्य इनसे द्वेष नहीं करता? और ये सभी निवृत्त हो जायँ तो इनकी इच्छा नहीं करता।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।14.22।। श्रीभगवान् ने कहा -- हे पाण्डव (ज्ञानी पुरुष) प्रकाश? प्रवृत्ति और मोह के प्रवृत्त होने पर भी उनका द्वेष नहीं करता तथा निवृत्त होने पर उनकी आकांक्षा नहीं करता है।।