Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 14.2 Download BG 14.2 as Image

⮪ BG 14.1 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 14.3⮫

Bhagavad Gita Chapter 14 Verse 2

भगवद् गीता अध्याय 14 श्लोक 2

इदं ज्ञानमुपाश्रित्य मम साधर्म्यमागताः।
सर्गेऽपि नोपजायन्ते प्रलये न व्यथन्ति च।।14.2।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 14.2)

।।14.2।।इस ज्ञानका आश्रय लेकर जो मनुष्य मेरी सधर्मताको प्राप्त हो गये हैं? वे महासर्गमें भी पैदा नहीं होते और महाप्रलयमें भी व्यथित नहीं होते।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।14.2।। इस ज्ञान का आश्रय लेकर मेरे स्वरूप (सार्धम्यम्) को प्राप्त पुरुष सृष्टि के आदि में जन्म नहीं लेते और प्रलयकाल में व्याकुल भी नहीं होते हैं।।