Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 13.30 Download BG 13.30 as Image

⮪ BG 13.29 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 13.31⮫

Bhagavad Gita Chapter 13 Verse 30

भगवद् गीता अध्याय 13 श्लोक 30

प्रकृत्यैव च कर्माणि क्रियमाणानि सर्वशः।
यः पश्यति तथाऽऽत्मानमकर्तारं स पश्यति।।13.30।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 13.30)

।।13.30।।जो सम्पूर्ण क्रियाओंको सब प्रकारसे प्रकृतिके द्वारा ही की जाती हुई देखता है और अपनेआपको अकर्ता देखता (अनुभव करता) है? वही यथार्थ देखता है।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।13.30।। जो पुरुष समस्त कर्मों को सर्वश प्रकृति द्वारा ही किये गये देखता है तथा आत्मा को अकर्ता देखता है? वही (वास्तव में) देखता है।।