Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 13.28 Download BG 13.28 as Image

⮪ BG 13.27 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 13.29⮫

Bhagavad Gita Chapter 13 Verse 28

भगवद् गीता अध्याय 13 श्लोक 28

समं सर्वेषु भूतेषु तिष्ठन्तं परमेश्वरम्।
विनश्यत्स्वविनश्यन्तं यः पश्यति स पश्यति।।13.28।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 13.28)

।।13.28।।जो नष्ट होते हुए सम्पूर्ण प्राणियोंमें परमात्माको नाशरहित और समरूपसे स्थित देखता है? वही वास्तवमें सही देखता है।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।13.28।। जो पुरुष समस्त नश्वर भूतों में अनश्वर परमेश्वर को समभाव से स्थित देखता है? वही (वास्तव में) देखता है।।