Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 13.27 Download BG 13.27 as Image

⮪ BG 13.26 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 13.28⮫

Bhagavad Gita Chapter 13 Verse 27

भगवद् गीता अध्याय 13 श्लोक 27

यावत्सञ्जायते किञ्चित्सत्त्वं स्थावरजङ्गमम्।
क्षेत्रक्षेत्रज्ञसंयोगात्तद्विद्धि भरतर्षभ।।13.27।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 13.27)

।।13.27।।हे भरतवंशियोंमें श्रेष्ठ अर्जुन स्थावर और जंगम जितने भी प्राणी पैदा होते हैं? उनको तुम क्षेत्र और क्षेत्रज्ञके संयोगसे उत्पन्न हुए समझो।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।13.27।। हे भरत श्रेष्ठ यावन्मात्र जो कुछ भी स्थावर जंगम (चराचर) वस्तु उत्पन्न होती है? उस सबको तुम क्षेत्र और क्षेत्रज्ञ के संयोग से उत्पन्न हुई जानो।।