Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 13.17 Download BG 13.17 as Image

⮪ BG 13.16 Bhagwad Gita Brahma Vaishnava Sampradaya BG 13.18⮫

Bhagavad Gita Chapter 13 Verse 17

भगवद् गीता अध्याय 13 श्लोक 17

अविभक्तं च भूतेषु विभक्तमिव च स्थितम्।
भूतभर्तृ च तज्ज्ञेयं ग्रसिष्णु प्रभविष्णु च।।13.17।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।13.17।। और वह अविभक्त है? तथापि वह भूतों में विभक्त के समान स्थित है। वह ज्ञेय ब्रह्म भूतमात्र का भर्ता? संहारकर्ता और उत्पत्ति कर्ता है।।

Brahma Vaishnava Sampradaya - Commentary