Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 12.7 Download BG 12.7 as Image

⮪ BG 12.6 Bhagwad Gita Brahma Vaishnava Sampradaya BG 12.8⮫

Bhagavad Gita Chapter 12 Verse 7

भगवद् गीता अध्याय 12 श्लोक 7

तेषामहं समुद्धर्ता मृत्युसंसारसागरात्।
भवामि नचिरात्पार्थ मय्यावेशितचेतसाम्।।12.7।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।12.7।। हे पार्थ जिनका चित्त मुझमें ही स्थिर हुआ है ऐसे भक्तों का मैं शीघ्र ही मृत्युरूप संसार सागर से उद्धार करने वाला होता हूँ।।

Brahma Vaishnava Sampradaya - Commentary