Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 11.51 Download BG 11.51 as Image

⮪ BG 11.50 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 11.52⮫

Bhagavad Gita Chapter 11 Verse 51

भगवद् गीता अध्याय 11 श्लोक 51

अर्जुन उवाच
दृष्ट्वेदं मानुषं रूपं तवसौम्यं जनार्दन।
इदानीमस्मि संवृत्तः सचेताः प्रकृतिं गतः।।11.51।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 11.51)

।।11.51।।अर्जुन बोले -- हे जनार्दन आपके इस सौम्य मनुष्यरूपको देखकर मैं इस समय स्थिरचित्त हो गया हूँ और अपनी स्वाभाविक स्थितिको प्राप्त हो गया हूँ।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।11.51।। अर्जुन ने कहा -- हे जनार्दन आपके इस सौम्य मनुष्य रूप को देखकर अब मैं शांतचित्त हुआ अपने स्वभाव को प्राप्त हो गया हूँ।।