Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 11.5 Download BG 11.5 as Image

⮪ BG 11.4 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 11.6⮫

Bhagavad Gita Chapter 11 Verse 5

भगवद् गीता अध्याय 11 श्लोक 5

श्री भगवानुवाच
पश्य मे पार्थ रूपाणि शतशोऽथ सहस्रशः।
नानाविधानि दिव्यानि नानावर्णाकृतीनि च।।11.5।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 11.5)

।।11.5।।श्रीभगवान् बोले -- हे पृथानन्दन अब मेरे अनेक तरहके? अनेक वर्णों और आकृतियोंवाले सैकड़ोंहजारों दिव्यरूपोंको तू देख।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।11.5।। श्रीभगवान् ने कहा -- हे पार्थ मेरे सैकड़ों तथा सहस्रों नाना प्रकार के और नाना वर्ण तथा आकृति वाले दिव्य रूपों को देखो।।