Share this page on following platforms.
Download Bhagwad Gita 11.48 Download BG 11.48 as Image

⮪ BG 11.47 Bhagwad Gita Hindi Translation BG 11.49⮫

Bhagavad Gita Chapter 11 Verse 48

भगवद् गीता अध्याय 11 श्लोक 48

न वेदयज्ञाध्ययनैर्न दानै
र्न च क्रियाभिर्न तपोभिरुग्रैः।
एवंरूपः शक्य अहं नृलोके
द्रष्टुं त्वदन्येन कुरुप्रवीर।।11.48।।

हिंदी अनुवाद - स्वामी रामसुख दास जी ( भगवद् गीता 11.48)

।।11.48।।हे कुरुप्रवीर मनुष्यलोकमें इस प्रकारके विश्वरूपवाला मैं न वेदोंके पढ़नेसे? न यज्ञोंके अनुष्ठानसे? न दानसे? न उग्र तपोंसे और न मात्र क्रियाओंसे तेरे (कृपापात्रके) सिवाय और किसीके द्वारा देखा जाना शक्य हूँ।

हिंदी अनुवाद - स्वामी तेजोमयानंद

।।11.48।। हे कुरुप्रवीर तुम्हारे अतिरिक्त इस मनुष्य लोक में किसी अन्य के द्वारा मैं इस रूप में? न वेदाध्ययन और न यज्ञ? न दान और न (धार्मिक) क्रियायों के द्वारा और न उग्र तपों के द्वारा ही देखा जा सकता हूँ।।